मध्य प्रदेश सरकार ने इस वित्तीय वर्ष में प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री दर नहीं बढ़ाने का फैसला लिया मंदी की मार झेल रहे रीयल एस्टेट में फिर बूम आएगा

 मध्य प्रदेश में इस वर्ष 


प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री दर नहीं बढ़ाने का फैसला लिया है। यानी मौजूदा कलेक्टर गाइडलाइन की दरों पर ही 31 मार्च 2022 तक संपत्तियों की रजिस्ट्री होगी। वहीं MP की 5 हजार नई जगहों पर दरें निर्धारित की जाएगी। माना जा रहा है कि आगामी नगरीय निकाय चुनावों को देखते हुए सरकार ने यह फैसला लिया है। इस फैसले से मध्यप्रदेश में प्रॉपर्टी खरीदने और बेचने वालों में हर्ष है एक प्रापर्टी ब्रोकर दें बताया कि सरकार के इस फैसले से प्रदेश में प्रॉपर्टी खरीदने वालों को बड़ी राहत मिलेगी क्योंकि कोविड-19 के चलते बाजार में पहले से ही मंदी थी और रजिस्ट्री करवाना यदि महंगा हो जाता तो प्रॉपर्टी के क्षेत्र में मंदी देखने को मिलती

 बुधवार सुबह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी।


MP में प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री फीस 19 से 20% तक बढ़ाने का प्रस्ताव मूल्यांकन बोर्ड ने जून में सरकार को दिया था। इसे 1 जुलाई से लागू किया जाना था, लेकिन सरकार ने पहले 15 जुलाई और फिर 31 जुलाई तक मौजूदा गाइडलाइन के हिसाब से ही रजिस्ट्री फीस लेने का फैसला किया था। अब सरकार ने इस वर्ष गाइडलाइन की दरों में वृद्धि नहीं करने का फैसला लिया है। इस वित्तीय वर्ष में मौजूदा गाइडलाइन से ही संपत्ति की रजिस्ट्री होगी। साथ ही 5 हजार ऐसे स्थान जहां दरें निर्धारित नहीं थीं, वहां दरें निर्धारित की जाएगी।


सवा लाख लोकेशन पर 40% तक दरें बढ़ाने का था प्रस्ताव

मूल्यांकन बोर्ड ने जून माह में सरकार को भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर समेत प्रदेश की सवा लाख लोकेशन पर 5 से 40% तक दरें बढ़ाने का प्रस्ताव दिया था। भोपाल और इंदौर में मेट्रो प्रोजेक्ट की वजह से कलेक्टर गाइडलाइन (बाजार दर) 40% तक बढ़ाने का प्रस्ताव था। हालांकि, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसे हरी झंडी नहीं दी थी और 31 जुलाई तक गाइडलाइन बढ़ाने के फैसले को टाल दिया था। अब मुख्यमंत्री ने मौजूदा गाइडलाइन ही यथावत रखने का निर्णय लिया है।



निकाय चुनाव बड़ी वजह


मुख्यमंत्री चौहान ने बुधवार सुबह ट्वीट कर लिखा कि मध्यप्रदेश शासन ने आमजन को राहत देने के उद‌्देश्य से इस वर्ष संपत्ति की गाइडलाइन की दरों में वृद्धि नहीं करने का फैसला किया है। हालांकि, जानकार नगरीय निकाय चुनाव के चलते गाइडलाइन पर फैसला लेने की बात कह रहे हैं।

 वहीं 2019-20 में तत्कालीन कमलनाथ सरकार ने गाइडलाइन की दरें 20% तक इस उम्मीद में घटा दी थी कि मंदी की मार झेल रहे रीयल एस्टेट में फिर बूम आएगा। हालांकि साल 2016-17 से अब तक सरकार स्टाम्प ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन फीस में बढ़ोतरी करती रही है। इस साल 40% तक की बढ़ोतरी करने का प्रस्ताव था, जो अगले वित्तीय वर्ष तक टाल दिया गया है।

Popular posts
इंदौर में कोरोना ब्लास्ट,हर दूसरा सैंपल पॉजिटिव
Image
जिलाधीश बंगले के समीप रहने वाले अधिकारी सहित 5 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई, 3 को लग चुके थे बूस्टर डोज, आने वाले दिनों में स्थिति और भी बिगड़ सकती है
Image
भोले नाथ की शरण में पहुंचे कमलनाथ, कांग्रेस प्रत्याशियों के पक्ष में ली आमसभा
Image
राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस के मौके पर वैकल्पिक चिकित्सक संघ द्वारा आयोजित 13 वाॅ अखिल भारतीय चिकित्सक सम्मान समारोह 1 जुलाई को स्थानीय कालिदास अकादमी उज्जैन में सम्पन्न हुआ...
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image