11 वीं सदी के विशाल श्री महाकालेश्वर मंदिर के अवशेष और गर्भगृह अभी भी मलबे में दबा होने से इसकी सफाई की आवश्यक इसलिए सती माता का चबूतरा विधि विधान से स्थानांतरित

 



उज्जैन । श्री महाकाल महाराज परिसर विस्तार योजना के तहत विगत दिनों महाकाल मंदिर परिसर के बाहर शिखर दर्शन के विकास हेतु चल रही खुदाई के दौरान प्राचीन मंदिर के पूरा अवशेष प्राप्त हुए थे ।कलेक्टर श्री आशीष सिंह द्वारा उक्त पूरा अवशेष की जांच करवाने हेतु पुरातत्व अभिलेखागार एवं संग्रहालय भोपाल से आग्रह किया गया था।


     उपसंचालक उत्खनन पुरातत्व विभाग ने बताया कि पुरातत्व संचालनालय के तकनीकी दल के पर्यवेक्षण में साइंटिफिक डेबरिस क्लेरेंस का कार्य किया गया। इसमें 11 वीं सदी के विशाल मंदिर के अवशेष प्रकाश में आए हैं ।उक्त पुरातन विशाल मंदिर का गर्भगृह अभी भी मलबे में दबा होने से इसकी सफाई की जाना आवश्यक है ।मलबे के ठीक ऊपर बने हुए सती माता के चबूतरे को इस आवश्यक कार्य के लिए स्थानांतरित किए जाने का अनुरोध पुरातत्व विभाग द्वारा पत्र लिखकर किया गया ।


    इस तारतम्य में आज 2 फरवरी को एसडीएम श्री गोविंद दुबे , तहसीलदार सूश्री पूर्णिमा सिंघी , नगर निरीक्षक श्री मुनेंद्र गौतम की उपस्थिति में सती माता चबूतरे को विधि विधान से पूजन अर्चन उपरांत महाकालेश्वर मंदिर समिति द्वारा उपलब्ध कराए गए स्थान ( यज्ञशाला के निकट )स्थानांतरित कर दिया गया है .यह जानकारी एडीएम श्री संतोष टैगोर द्वारा दी गई।

Popular posts
बेटे के वियोग में गीत बनाया , बन गया प्रेमियों का सबसे अमर गाना
Image
ये दुनिया नफरतों की आखरी स्टेज पर है  इलाज इसका मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं है ,मेले में सफलतापूर्वक आयोजित हुआ मुशायरा
पूर्व मंत्री बोले सरकार तो कांग्रेस की ही बनेगी
Image
नवनियुक्त मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव को उज्जैन तथा अन्य जिलों से आए जनप्रतिनिधियों कार्यकर्ताओं और परिचितों ने लालघाटी स्थित वीआईपी विश्रामगृह पहुंचकर बधाई और शुभकामनाएं दी
Image
उज्जैन के अश्विनी शोध संस्थान में मौजूद हैं 2600 साल पुराने सिक्के
Image