कोरोना से जुड़े प्रैंक्स और जोक्स पर पूरी तरह से रोक

पुणे. एक अप्रैल को पूरी दुनिया में 'अप्रैल फूल डे' मनाया जाता है। इस दौरान लोग एक दूसरे को जोक्स भेजते हैं और उनके साथ प्रैंक करते हैं। पूरा देश इस समय कोरोना की चपेट में है। महाराष्ट्र कोरोना संक्रमण् से सबसे ज्यादा प्रभावित है। लोग डरे हुए हैं। ऐसे में अफवाह पुलिस की मुश्किल बढ़ा सकती है। इसे देखते हुए पुणे पुलिस ने एक अप्रैल को कोरोना से जुड़े प्रैंक्स और जोक्स पर पूरी तरह से रोक लगा दी है। नियमों का उल्लंंघन करने वाले के खिलाफ आईपीसी की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी। इसमें 6 महीने की सजा और 1000 रुपए के जुर्माने का प्रावधान है।


व्हाट्सएप ग्रुप एडमिन को भी पुलिस ने चेताया
इसे लेकर पुणे पुलिस ने एक नोटिफिकेशन भी जारी किया है। पुणे ग्रामीण पुलिस के सब-डिवीजनल ऑफिसर नारायण शिरगांवकर ने कहा कि एक अप्रैल को लोग अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को झूठे फोन कॉल और मैसेज भेजकर उनके साथ प्रैंक करते हैं। हालांकि, वर्तमान स्थिति में इससे लॉकडाउन प्रभावित हो सकता है और लोगों में भ्रम की स्थिति पैदा हो सकती है। उन्होंने व्हाट्सएप ग्रुप एडमिन को भी अलर्ट रहने के लिए कहा है। क्योंकि, व्हाट्सएप पर अगर कोई व्यक्ति इस तरह के मैसेज भेजता है तो उसके ग्रुप एडमिन पर कार्रवाई की जाएगी। ग्रुप एडमिन को यह भी कहा गया है कि वे मैसेज भेजने के ऑप्शन को सिर्फ एडमिन के लिए खुला रखें।


पूरे शहर की ड्रोन से निगरानी, अब तक 45 मामले सामने आए
पुणे में मंगलवार सुबह तक 45 कोरोना संक्रमित सामने आ चुके हैं, जिसमें से 10 लोगों ठीक होकर घर भी जा चुके हैं। सोमवार को यहां एक 52 वर्षीय शख्स की मौत हुई है। यहां के सभी इलाके पूरी तरह से लॉकडाउन है। पूरे शहर की ड्रोन से निगरानी हो रही है, जिन इलाको में भी लोग बाहर नजर आ रहे हैं। वहां पर पुलिस जाकर उन्हें घर के अंदर रहने की हिदायत दे रही है।


Popular posts
अखाड़ा परिषद् अध्यक्ष नरेंद्र गिरी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत
Image
देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले वीर जवानों को श्रद्धांजलि
स्ट्रांग रूम का निरीक्षण करने के लिए राजनीतिक दल आमंत्रित 
फेसबुक गैंग के गुंडे दुर्लभ कश्यप की हत्या
Image
सरकारी जमीन पर तान दी मल्टी, टीएनसीपी ने निरस्त की अनुमति, नगर निगम ने भ्रष्टाचार की सीमा तोड़ी,,, बिल्डर ने शासकीय अधिकारी एवं इंजीनियरों से सांठगांठ कर अवैध मल्टी का निर्माण करने पर नगर निगम इंजीनियर मीनाक्षी शर्मा, भवन अधिकारी रामबाबू शर्मा, नगर निवेशक मनोज पाठक पर धारा 420, 467, 468, 471, 120-बी भादवी एवं भ्रष्टाचार का प्रकरण दर्ज करने की मांग की थी
Image