मध्य प्रदेश में शराब की दुकानों को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं

भोपाल, जबलपुर। मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एके मित्तल व न्यायाधीश विजय कुमार शुक्ला की युगलपीठ ने शराब ठेकेदारों की याचिका पर सुनवाई करते हुए राज्य सरकार को नोटिस जारी कर 2 सप्ताह के भीतर जवाब पेश करने के निर्देश दिए हैं। कोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा है कि जब शराब दुकानों के खुलने का निर्धारित समय कम कर दिया गया है तो इनके ठेकों की पूर्व निर्धारित रकम क्यों नहीं घटाई जा रही है।


30 शराब ठेकेदारों ने याचिका दायर की है। अधिवक्ता राहुल दिवाकर ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये कोर्ट को तर्क दिया कि जब याचिकाकर्ताओं ने संबधित शराब दुकानों के ठेके लिए तो निविदा की शर्तें कुछ और थीं। इनके तहत शराब दुकानों को दिन में 14 घंटे खोले जाने की अनुमति थी। दुकान के साथ मे शराब पीने के लिए अहाता संचालन की भी अनुमति थी। लेकिन 23 मार्च के बाद से परिस्थितियां बदल गईं हैं।लॉकडाउन के चलते 40 दिन दुकानें बंद रहीं। अब इन्हें खोलने की अनुमति भी दी गई है, तो कठोर शर्तों के साथ। इनके तहत जबलपुर, भोपाल आदि शहरी इलाकों में अभी भी दुकाने खोलने की अनुमति नही दी गई।


Popular posts
अग्रवाल समाज का चतुर्थ निःशुल्क अभा युवक युवती परिचय सम्मेलन शनिवार से
Image
कांग्रेस महापौर प्रत्याशी के समर्थन में संजय शुक्ला की महारैली
Image
जेल में नजर आएंगे गुरु नानक अस्पताल के लालची डॉक्टर
Image
कैबिनेट की बैठक में फिर बदला महाकाल कॉरिडोर का नाम,,,,, अब इसे,, महाकाल लोक,,, के नाम से जाना जाएगा, आजादी के बाद पहली बार उज्जैन में हुई प्रदेश सरकार के कैबिनेट की बैठक
Image
प्रतिभा स्वराज प्राइवेट लिमिटेड एवं ओम साईं फरिश्ते फाउंडेशन द्वारा आईटीआई प्रशिक्षित महिलाओं को रोजगार हेतु साक्षात्कार(interview) का आयोजन
Image